Nature of Communication in Hindi | संचार की प्रकृति की पूरी जानकारी

ये Article Business Communication in Hindi Study का है। जिसमे हम Nature of Communication in Hindi (संचार की प्रकृति की पूरी जानकारी ) के बारे में पढ़ेंगे। पहले ये बता दूँ। Nature of Communication In Hindi Chapter Business Communication का पहला Chapter है। ये BCA, B .Tech BSC, NTA Ugc इसके अतिरिक्त अन्य बहुत से Courses है। तो यदि ये आपके Syllabus में है। तो आप इस Article को Read करे। यहाँ आपको पूरी तरह से समझ में आ जायेगा।

Read Also – छात्रों के लिए मुफ्त लैपटॉप 2021: छात्रों के लिए लैपटॉप सरकार

Nature of Communication in Hindi

Communication शब्द लैटिन भाषा के शब्द “Communis” से लिया गया है, जिसका अर्थ Share (साँझा) करना, प्रदान करना, भाग लेना आदि है।Nature of Communication मतलब जब कोई व्यक्ति Communication करता है। तो उसे समझना, विचार प्रदान करना, सामान्य आधार स्थापित करना आदि सब करना होता है।

Meaning of Communication in Hindi (Communication का अर्थ )

Theo Haimann के द्वारा-“संचार एक ऐसी प्रक्रिया है, जिससे सूचना और समझ को एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को भेज सकते है। यह विचार को पारित करने और स्वयं को दूसरो द्वारा समझने की एक प्रक्रिया है “”Communication is the process of passing information and understanding from one person to another. It is the process of imparting ideas and making oneself understood by others.”संचार (Communication) एक प्रक्रिया है, जिसके माध्यम से सूचना (Information) को व्यक्तिओ, समूहों के बीच आदान प्रदान कर सकते है।

Types of Communication in Hindi (Communication के प्रकार )

Communication कितने प्रकार के होते है। ये कहना मुश्किल है। लेकिन Communication मुख्य रूप से 4 प्रकार के होते है। जिनकी list नीचे दी गयी है।

  1. Verbal Communication
  2. Non-Verbal Communication
  3. Visual Communication
  4. Written Communication

1. Verbal Communication

Verbal Communication में संचार मुख से बोले गए शब्दों (Words) में किया जाता है। इसमें कोई भी व्यक्ति अपने विचारो भावनाओ को वार्तालाप द्वारा व्यक्त करता है।

2. Non Verbal Communication

Non Verbal Communication एक ऐसा प्रकार है। जिसमे व्यक्ति बिना कुछ बोले हुए संचार करता है। इस प्रकार के संचार में व्यक्ति हाथो के द्वारा, इशारो के द्वारा, चेहरे के भावो के द्वारा, अपने विचारो को व्यक्त करता है।

3. Visual Communication

इस प्रकार के communication में Present आ जाता है। जैसे व्यक्ति Live Video देखना, Chatting करना, तस्वीर देखना, social media की post देखना आदि सब कुछ आ जाता है।

4. Written Communication

जब संचार लिखे गए शब्दों के द्वारा होता है। तो वो Written Communication कहलाता है। जैसे – Newspaper , Latters , Books आदि।

Communication Process in Hindi

यहाँ पे अब हम Communication Process in Hindi (संचार प्रक्रिया ) के बारे में जानेगे। Communication process संचार प्रक्रिया संचार भेजकरता और संचार प्राप्तकर्ता के बीच के सभी Steps को जड़ती है। संचार की प्रक्रिया पूरी तभी होगी जब प्राप्त करने वाला प्राप्तकर्ता उसे समझ ले और उसका जबाब दे सके। संचार की प्रक्रिया को Two – Way Process के नाम से भी जानते है।

संचार की प्रक्रिया में Five Element है। संचार की प्रक्रिया पांच तत्वों में पूर्ण होती है।

Sender  – जो संचार को भेजता है। वो sender (भेजकर्ता) होता है।

Encoding – Sender अब Massage को Generate करेगा प्रेषक द्वारा उसे Encode किया जायेगा वो किस तरह से भेजना चाहता है। ये सोचेंगा।

Message – Message का मतलब व्यक्ति जो भी सन्देश भेजना चाहता है। उसको उसने तैयार कर लिया है। जैसे – दिमाग में , लिखकर

Channel – अब sender Channel चुनेगा की massage किस तरह से भेजना है। ये चुनने के बाद में वो massage को भेज देगा।

Receiver – जिस व्यक्ति के पास message भेजा गया है। जो Message प्राप्तकर्ता है। वो Receiver कहलाता है। यही किन्ही कारणों के द्वारा Receiver Message को सफलतापूर्वक प्राप्त नहीं कर पाता है। तो Message की प्रक्रिया अधूरी रह जाती है।

Decoding – Decoding का मतलब प्राप्तकर्ता किस प्रकार से Message को समझेगा। वो Message को समझने के लिए अपने शब्दों में convert करेगा।

Feedback – प्राप्तकर्ता उस संचार का जबाब sender को Feedback के रूप में देता है।

Objectives of Communication in Hindi (Communication के उद्देश्य )

यहाँ पे जानेगे संचार के क्या उद्देश्य है। जीवन में व्यक्ति अपना बहुत सारा समय एक दुसरे व्यक्ति से संचार करने में निकाल देता है। संचार परिवार में, संगठन में, सामाजिक संगठन के बीच मे सचार में किसी काम को पूर्ण करने या एक Relationship बनाने के लिए होता है। संचार कई लक्ष्यों के लिए हो सकता है। उन सभी के बारे में नीचे बताया गया है।

1.Exchange of Information

संचार करने का मुख्य उद्देश्य Exchange of Information होता है। जैसे – किसी भी Business या Organization में एक दुसरे की ray जानने लिए संचार करना।

2. Education

संचार का प्रयोग Education के लिए किया जाता है। जैसे – Colleges में बच्चो को संचार के माध्यम से पढ़ना।

3. Suggestion

जैसे हम किसी को Order दे रहे है। Advice दे रहे है। तो ये काम भी संचार के माध्यम से किया जायेगा।

4. Motivation

Motivation का अर्थ क्या है ? ये तो जानते होंगे। ये एक ऐसी प्रक्रिया है। जिसके माध्यम से लोगो को कठोर परिश्रम करना और अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए प्रेरित करना है। ये भी Communication (संचार ) के माध्यम से होता है।

Spread the love

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

© 2021 सरकारी सेवा - WordPress Theme by WPEnjoy